गुरुवार, 8 अप्रैल 2010

मोको कहां ढूँढे रे बन्दे














मोको कहां ढूँढे रे बन्दे,
मैं तो तेरे पास में|
ना तीरथ मे ना मूरत में,
ना एकान्त निवास में,
ना मंदिर में ना मस्जिद में,
ना काबे कैलास में,
मैं तो तेरे पास में बन्दे!
मैं तो तेरे पास में!
ना मैं जप में ना मैं तप में,
ना मैं बरत उपास में,
ना मैं किरिया करम में रहता,
नहिं जोग सन्यास में,
नहिं प्राण में नहिं पिंड में,
ना ब्रह्याण्ड आकाश में,
ना मैं प्रकुति प्रवार गुफा में,
नहिं स्वांसों की स्वांस में,
खोजि होए तुरत मिल जाउं,
इक पल की तालास में!
कहत कबीर सुनो भई साधो,
मैं तो हूं विश्वास में !!!

1 टिप्पणी:

  1. mo ko kahân dhûnro re bande

    O SERVANT, where dost thou seek Me?
    Lo! I am beside thee.
    I am neither in temple nor in mosque: I am neither in Kaaba nor in Kailash:
    Neither am I in rites and ceremonies, nor in Yoga and renunciation.
    If thou art a true seeker, thou shalt at once see Me: thou shalt meet Me in a moment of time.
    Kabîr says, "O Sadhu! God is the breath of all breath."

    Translation by Rabindranath Tagore

    उत्तर देंहटाएं