शनिवार, 17 अप्रैल 2010

तेरा साईं तुझ में है, तू जाग सके तो जाग

कबीर सुता क्या करे, करे काज निवार|
जिस पंथ तू चलना, तो पंथ संवार||

जैसे तिल में तेल है, ज्यों चकमक में आग|
तेरा साईं तुझ में है, तू जाग सके तो जाग||

जीवत समझे जीवत बुझे, जीवत ही करो आस|
जीवत करम की फाँस न काटी, मुए मुक्ति की आस||

अकथ कहानी प्रेम की, कुछ कही न जाये|
गूंगे केरी सर्करा, बैठे मुस्काए||

मुंड मुंडावत दिन गए, अजहूँ न मिलिया राम|
राम नाम कहू क्या करे, जे मन के औरे काम||

पहले अगन बिरहा की, पाछे प्रेम की प्यास|
कहे कबीर तब जानिए, नाम मिलन की आस|

एक कहूँ तो है नहीं, दो कहूँ तो गारी|
है जैसा तैसा रहे, कहे कबीर बिचारी|

1 टिप्पणी: