बुधवार, 7 अप्रैल 2010

सॉंच बराबर तप नहीं...

जाति न पूछो साधु की,
पूछ लीजिए ग्‍यान।
मोल करो तलवार के,
पड़ा रहन दो म्‍यान।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~
जिन ढूँढा तिन पाइयॉं,
गहरे पानी पैठ।
मैं बपुरा बूडन डरा,
रहा किनारे बैठ।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~
सॉंच बराबर तप नहीं,
झूठ बराबर पाप।
जाके हिरदै सॉंच है,
ताके हिरदै आप।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~
बोली एक अनमोल है,
जो कोई बोलै जानि।
हिये तराजू तौलि के,
तब मुख बाहर आनि।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~
अति का भला न बोलना,
अति की भली न चूप।
अति का भला न बरसना,
अति की भली न धूप।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~
पाहन पुजे तो हरि मिले,
तो मैं पूजूँ पहाड़।
ताते या चाकी भली,
पीस खाए संसार।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~
निंदक नियरे राखिए,
ऑंगन कुटी छवाय।
बिन पानी, साबुन बिना,
निर्मल करे सुभाय।।

6 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी प्रस्तुति। बधाई। ब्लॉगजगत में स्वागत।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है... हिंदी में आपका लेखन सराहनीय है, इसी तरह तबियत से लिखते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा ब्लॉग है ।
    अछी ज्ञान की बाते है जी
    मेने भी ब्लॉग बनाया है ।
    Rajyadavbagwadiya. blogspot.
    com
    Jarur dekhna

    उत्तर देंहटाएं